पूरनपुर : सिपाही की बदसलूकी से भड़के वकील, कोतवाल के खिलाफ जमकर नारेबाज़ी

फ़रहान क़ासिम

पीलीभीत (पूरनपुर)। कोतवाली के सामने लगे जाम से एक अधिवक्ता को पुलिस कर्मी द्वारा कोतवाली तक घसीट कर लाने को लेकर अधिवक्ताओं ने पुलिस कर्मी के खिलाफ तहरीर देकर निलम्बन की मांग की। मांग न माने जाने पर अधिवक्ताओं ने कोतवाली के सामने जाम लगाकर कोतवाली प्रभारी व पुलिस कर्मी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। यह सारा तमाशा कोतवाली प्रभारी में मूक दर्शक बने देखते रहे और कुछ न कर सके। सीओ ने आकर जाम खुलवाया और समझा बुझाकर दोनो पक्षों को वार्ता कर मामले को सुलझाने का प्रयास किया।

कोतवाली के सामने लगे जाम में अधिवक्ता संघ के कोषाध्यक्ष अरजिन्दर सिंह महल अपनी बाइक पर सवार होकर जाम में फंसे थे। तभी किसी बात पर कोतवाली सिपाही अमर सिंह उन्हें हवालात में डालने के लिए उनका गिरेबान पकड़कर घसीटता हुआ कोतवाली ले आया। इसी को लेकर अधिवक्ताओं में रोष फैल गया। आनन-फानन में सभी अधिवक्ता कोतवाली में जमा हो गये। इस मामले को लेकर सिपाही और कोतवाली प्रभारी से अधिवक्ताओं की तीखी झड़पड़ हुयी। मामला तूल पकड़ता देख कोतवाली प्रभारी ने वार्ता करने का प्रयास किय लेकिन कामयाबी नहीं मिली। इसके बाद अधिवक्ताओं ने सिपाही के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्यवाही करने और एसएसआई उदयवीर सिंह व उपेन्द्र सिंह द्वारा सहयोग करने पर दोनो के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग की जिसे कोतवाली प्रभारी ने अस्वीकार कर दिया। इसी को लेकर अधिवक्ताओं ने कोतवाली के सामने जाम लगाकर कोतवाली प्रभारी व पुलिस कर्मी के खिलाफ जमकर नारेबाज की। सीओ अनुराग दर्शन ने जाम खुलवाया और वार्ता कर दोनो पक्षों को समझा बुझाकर मामला रफा-दफा करने का प्रयास किया। लेकिन अधिवक्ता कार्यवाही पर अडिग रहे तब सीओ ने जांच कराकर कार्यवाही करने का आश्वासन दिया। मालूम रहे कि अधिवक्ताओं का एकगुट समझौता कराना चाहता है जबकि अधिकांश अधिवक्ता कार्यवाही चाहते हैं।

Related posts