मंजीत ने जीता जकार्ता में गोल्ड, डॉ हुदा के साथ बरेली को किया समर्पित

बरेली। उत्तर प्रदेश के बरेली ज़िले की प्रतिभा ने एक बार फिर अंतराष्ट्रीय स्तर पर अपने देश और शहर का नाम ऊंचा किया है। यह कारनामा किया है बरेली के जाट सेंटर में ट्रेनिंग लेने वाले मंजीत सिंह ने। मंजीत ने 800 मीटर की दौड़ में जकार्ता एशियाड में गोल्ड जीता है।

बरेली में मंजीत को ट्रेनिंग देने वाले कोच अमरीश कुमार ने बरेली वासियों के साथ बरेली निवासी विख्यात स्पोर्ट्स इंजरी एक्सपर्ट डॉक्टर एस.ई. हुदा को यह गोल्ड समर्पित किया है। इसके लिए अमरीश ने जकार्ता से डॉक्टर हुदा के लिए ऑडियो संदेश भेजा है। डॉक्टर हुदा की प्रशंसा करते हुए अमरीश कहते हैं कि डॉक्टर हुदा वर्षों से सभी खिलाड़ियों का मुफ्त ईलाज करते आ रहे हैं। जो खिलाड़ी हैमस्ट्रिंग, मसल्स के खिंचाव, बेहद दर्द और सूजन से परेशान रहा हो वह इस दर्द से उभरकर देश के लिए गोल्ड जीते इससे बड़ी क्या उपलब्धी हो सकती है।

डॉक्टर हुदा ने बताया की मंजीत हैमस्ट्रिंग, मसल्स में खिंचाव, सूजन और दर्द से ग्रसित थे जो किसी भी एथलीट की परफॉरमेंस में सबसे बड़ी बाधक साबित हो सकती है। एक माह के ईलाज के बाद मंजीत काफी हद तक फिट हो गए। फिर भी वो लगातार डॉ. हुदा के संपर्क में बने रहे और जकार्ता में प्रतियोगिता के दौरान भी मंजीत उनसे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग करके सलाह लेते रहे। डॉक्टर हुदा ने यह भी बताया कि जब मंजीत उनके पास आये और कहा की डॉक्टर साहब आप मुझे सही करने की क्या फीस लेंगे! तब मैंने कहा था कि मैं चाहता हूं तुम देश के लिए एशियाड में गोल्ड जीतो ये ही मेरी सबसे बड़ी फीस होगी।इसके बाद मंजीत ने उनसे गोल्ड लाने का वादा किया था और मंजीत ने वो वादा पूरा भी कर दिखाया।

गौरतलब है कि डॉक्टर एस. ई. हुदा ने भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व फिजियो डॉ.अली ईरानी से स्पोर्ट्स इंजरी रिहैबिलिटेशन की बारीकियां सीखी हैं। वह भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी, पूर्व कप्तान अजय जडेजा सहित कई राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं।

Related posts