क्या आपको मिलेगा 5 लाख का ‘आयुष्मान स्वास्थ्य बीमा’? यहां जानिए

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को देश की 50 करोड़ आबादी के लिए प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना-आयुष्मान भारत को लांच किया है, वहीं उत्तर प्रदेश में गृह मंत्री राजनाथ सिंह इसका शुभारंभ किया है। इस योजना के तहत 10.74 करोड़ परिवारों को सालाना 5 लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा कवर दिया जाएगा।

ऐसे करें अपने लाभ्यार्थी होने की जांच

इस योजना के तहत 5 लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा आपको या आपके परिवार को मिला है या नहीं? इसका पता करने के लिए आपको mera.pmjay.gov.in वेबसाइट पर जाना होगा। इस वेबसाट पर जाने के बाद आपसे आपका मोबाइल नंबर लिखे जाने के लिए एक जगह दी होगी जहां आपको अपना मोबाइल नंबर भरना है, जैसे ही आप मोबाइल नंबर भरेंगे तो आपके सामने एक कैप्चा कोड आएगा जिसे उसकी संबधित जगह पर भरना होगा। जैसे ही आप कैप्चा कोड भरेंगे तो आपको वन टाइम पासवर्ड (OTP) तैयार करने के लिए कहा जाएगा आएगा, OTP तैयार करने वाले बटन पर आप जैसे ही क्लिक करेंगे तो आपके मोबाइल फोन पर OTP जाएगा जिसे उसकी दी हुई जगह पर भरना है।
OTP भरने के बाद आपके सामने एक नया फार्म खुलेगा जिसपर आपसे आपके संबधित राज्य को चुनने के लिए कहा जाएगा, इसके बाद आपकी पहचान का पता करने के लिए 4 अलग-अलग ऑप्शन होंगे। पहले ऑप्शन में आप अपने नाम और पूरे पते जी जानकारी से अपनी पहचान के बारे में बता सकेंगे, ऐसा करने के बाद सिस्टम आपको बताएगा कि आप इस योजना में शामिल हैं या नहीं। दूसरे ऑप्शन में आप अपने राशन कार्ड का नंबर भरकर भी आपने लाभार्थी होने की जानकारी हासिल कर सकते हैं। तीसरा ऑप्शन मोबाइल नंबर का है जिसके जरिए भी आपको लाभार्थी होने की जानकारी मिल सकती है और चौथा ऑप्शन RSBY का है जिसके जरिए भी आपको इसकी जानकारी मिल सकती है।

ग्रामीण क्षेत्रों में यह लोग हैं हकदार

ग्रामीण क्षेत्रों में इस योजना के दायरे में उन लोगों को रखा गया है जिनके पास सिर्फ 1 कमरे वाला कच्चा मकान हो, जिनके परिवार में 16-59 वर्ष की आयु में कोई भी व्यक्ति न हो, महिला प्रधान परिवार जिसमें कोई भी व्यस्क पुरुष सदस्य न हो, दिव्यांग सदस्य जिसके परिवार में उसकी मदद करने वाला कोई सदस्य न हो, अनुसूचित जाती और अनुसूचित जनजाती के परिवार, ऐसे परिवार जिनकी मुख्य कमाई का जरिया सिर्फ मजदूरी हो। इनके अलावा बेघर परिवार, कूड़े-कचरे पर गुजारा करने वाला परिवार, जनजातीय समूह और कानूनी तौर पर बंधुआ मजदूरी से मुक्त कराए गए परिवार भी इस योजना का लाभ उठाने योग्य हैं।

शहरी क्षेत्रों में इनको मिलेगा स्वास्थ्य बीमा

शहरी क्षेत्रों में कचरा उठाने वाले, भीखारी, घरेलू मजदूरी करने वाले, गलियों में रेहड़ी लेकर सामाने बेचने वाले, मोची, कंस्ट्रक्शन मजदूर, प्लंबर, पेंटर, वेल्डर, सिक्योरिटी गार्ड, कुली, स्वीपर, सफाई कर्मचारी, माली, दर्जी, ट्रांस्पोर्ट मजदूर, ड्राइवर, कंडक्टर, रिक्शा चलाने वाले, चपरासी, डिलिवरी एसिस्टेंट, इलेक्ट्रीशियन, रिपेयर वर्कर, धोबी या चौकीदार वगैहर तमाम तरह के लोगों को इस योजना में शामिल किया गया है।

Related posts