बैल कोल्हू के 27 ठिकानों पर आयकर की छापेमारी, घनश्याम खंडेलवाल के घर, गोदाम से फैक्ट्री, फाइल तक सीज

  • प्रदीप कुमार शर्मा

बरेली। बरेली शहर के चर्चित व्यापारी बैल कोल्हू के मालिक घनश्याम खंडेलवाल के यहां तड़के सुबह सात बजे निदेशक इन्वेस्टिगेशन के निर्देश पर दिल्ली, देहरादून, मुरादाबाद से आई 500 लोगों की टीम ने औचक छापा मारा।

बताया जा रहा है कि छापेमारी करने आई आयकर विभाग की टीम एक दिन पहले ही रात को बरेली पहुंच चुकी थी। अफसरों को बरेली आईवीआरआई के गेस्ट हाउस में ठहराया गया था, जिसकी किसी को भी भनक तक नही लगी। अगले दिन सुबह तड़के सात बजे ही पूरी टीम पुलिस के साथ मिलकर खंडेलवाल एडबल आयल के 27 ठिकानों पर एक साथ छापा मारा। तेल व्यापारी घनश्याम खंडेलवाल व उनके भाई दिलीप खंडेलवाल के यहां जब इनकम टैक्स ने रेड डाली तो खंडेलवाल एंड कंपनी में खलबली मच गई। गौरतलब है कि छापेमारी के लिए 35 गाड़ियां मुरादाबाद से, 25 गाड़ियां देहरादून व कुछ गाड़ियों से दिल्ली आयकर विभाग के अफसर बरेली पहुंचे। जिसमे लखनऊ आयकर विभाग की पांच सौ अफसरों व कर्मचारियों की टीम शामिल थी।

टीम ने किसी को बिना मौका दिए इतनी फुर्ती से छापा मारा कि किसी को कान फुसफुसाने का मौका तक नहीं मिला। टीम खंडेलवाल की राजेन्द्र नगर स्थित कोठी सहित सभी दफ्तर, गोदाम, फैक्ट्री से लेकर पेपर्स, बिल्स, मेंटिनेंस दस्तावेजो को भी खंगालने में लग गई। छापे की सूचना मिलते ही घनश्याम खंडेलवाल के लोंगो ने विरोध करना शुरू कर दिया लेकिन इस दौरान पांच शहरों से पहुंची पुलिस व पीएसी ने किसी को विरोध करने का मौका ही नही दिया। जिसके बाद खंडेलवाल के सपोर्टर व्यापारियों ने शायमगंज बाजार बंद कर विरोध जताया शुरू कर दिया।

खबर लिखे जाने तक आयकर की टीम ने बैल कोल्हू के श्यामगंज, परसा खेड़ा, नरकुला गंज, मारवाड़ी गंज में बने गोदाम, दफ्तरों मे सबकुछ सीज कर अपना कार्य शुरु कर दिया था। छापेमारी के दौरान बरेली पंहुचे आयकर विभाग के अफ़सरो ने किसी को भी अंदर से बाहर नही जाने दिया और नही ही किसी को फ़ोन पर बात करने दी।

Related posts