बरेली के नीरव मोदी निकले घनश्याम खंडेलवाल

बरेली(OT News Network)। 3 दिन के सघन चेकिंग के बाद आज इनकम टैक्स की टीम वापस दिल्ली रवाना हो गई। बीएल एग्रो में पत्रकारों से बातचीत में डायरेक्टर विजिलेंस अमरेंद्र कुमार ने बताया कि घनश्याम खंडेलवाल ने ज्यादा टर्नओवर दिखाकर बैंक से कई सौ करोड़ रुपए की लिमिट व लोन ले लिया। इसमें बैंक का बहुत बड़ा फाल्ट है समय रहते अगर आयकर विभाग कार्यवाही ना करता तो यह बरेली के नीरव मोदी हो जाते।


आयकर विभाग अपना काम कर रहा है, जो अधिकारी पूछ रहे हैं हम वो जवाब दे रहे हैं। इतना बड़ा कारोबार है इसमें 50 लाख, 1 करोड़ की गड़बड़ी हो तो कह नहीं सकते। बाकी सब ठीक है।

घनश्याम खंडेलवाल

चेयरमैन, बीएल एग्रो लिमिटेड


इससे पहले दिलीप खंडेलवाल ने 35 करोड़ रुपए सरेंडर कर दिए, साथ में 12 किलो सोना और कुछ हीरे, जवाहरात भी सरेंडर किए। आयकर अधिकारियों ने घनश्याम खंडेलवाल की करीबी स्टूडियो 11 को भी बेनामी संपत्ति मानकर कार्यवाही के लिए कहा, वहां पर पहुंचे कुछ व्यापारियों ने 3 दिन से लगातार चेकिंग का विरोध किया। अधिकारी जब सारनाथ फाइनेंस के मालिक रवि अग्रवाल से उनकी फैक्ट्री और उनका नाम पूछने लगे तो वह घबरा गए तब डायरेक्टर विजिलेंस बोले डरो नहीं मैं तो बस ऐसे ही पूछ रहा था। व्यापारियों द्वारा अराजकता फैलाने का आरोप लगाने पर व्यापारी डायरेक्टर विजिलेंस पर बिफर पड़े। डायरेक्टर विजिलेंस ने बाद में स्वीकारा की व्यापार मंडल ने अराजकता नहीं फैलाई।

हमें अपना काम करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। दिलीप खंडेलवाल ने 35 करोड़ का सरेंडर किया है वहीं घनश्याम खंडेलवाल अपनी गलतियां मानने को तैयार नहीं हैं।

अमरेंद्र कुमार

डायरेक्टर विजिलेंस, आयकर विभाग

अमरेंद्र कुमार, डायरेक्टर विजिलेंस, आयकर विभाग

Related posts