रेलवे फाटक न खुलने से शहर से कटे हैं माधोटांडा क्षेत्र के 2 दर्जन गाँव, हेमराज वर्मा बोले भाजपा सरकार है जिम्मेदार

  • राकेश बाबू/विनय सक्सेना

पीलीभीत/गजरौला : आसाम रोड को माधोटांडा रोड से जोड़ने वाला मिनी हाईवे कई सालों के बाद भी जन सामान्य के लिए खुल नहीं पाया है. क्षेत्र के लोग पिछले कई सालों से दियुरी हाल्ट के पास रेलवे क्रासिंग फाटक के पक्के तौर पर बंद हो जाने के चलते भारी समस्याओं से जूझ रहे हैं। आलम यह है कि फाटक के बंद हो जाने के चलते जहां यह इलाका शहर से कट गया है, वही क्षेत्र की मुख्य मार्केट भी रेलवे लाइन के दूसरी तरफ होने के चलते लोगों को परेशानी हो रही है। इसके इलावा क्षेत्र के बच्चों को स्कूल जाने में भी भारी दिक्कते आ रही है।

हेमराज वर्मा, पूर्व राज्यमंत्री, सपा सरकार

गौरतलब है कि तत्कालीन सपा सरकार में राज्यमंत्री हेमराज वर्मा ने पीलीभीत माधोटांडा मार्ग को पीलीभीत आसाम रोड हाईवे को जोड़ते हुए कल्याणपुर नहर के पास से मुड़ेला पुलिया तक मिनी हाईवे का निर्माण कार्य शुरू कराया था। 64 करोड़ की लगत से बनने वाले 12 किलोमीटर लम्बे इस मार्ग को मिनी हाईवे नाम दिया गया। इसके निर्माण से उम्मीद की जा रही थी कि क्षेत्र के 2 दर्जन से अधिक गाँव सीधे शहर से जुड़ जायेंगे। लेकिन मिनी हाईवे का निर्माण होने के बाद भी क्षेत्र की जनता को मायूसी ही हाथ लगी। वजह दियुरी हाल्ट के पास मानव रहित रेलवे क्रासिंग है जो बरसों पहले एक बैलगाड़ी हादसे के बाद रेलवे प्रशासन ने बंद कर दिया था। यह रेलवे क्रासिंग आज भी बंद है जिसके कारण करोड़ों की लागत से बना यह मिनी हाईवे सफ़ेद हाथी बना हुआ है और क्षेत्र के 2 दर्जन से अधिक गाँव आज भी सीधे शहर से नहीं जुड़ पाए हैं। इस बावत पूर्व राज्यमंत्री हेमराज वर्मा कहते हैं कि

क्षेत्र को आसाम रोड हाईवे से सीधे शहर से जोड़ने के लिए इस 12 किलोमीटर लम्बे मार्ग को स्वीकृत कराकर निर्माण कार्य प्रारंभ कराया था। इस कार्य को 6 महीने में पूरा हो जाना चाहिए था। लेकिन प्रदेश में सरकार बदलने के साथ ही इसका निर्माण कार्य आज तक पूरा नहीं हो सका है। इस मार्ग को आसाम रोड से जोड़ने में रेलवे क्रासिंग सबसे बड़ा रोड़ा है। हमने यहाँ रेलवे फाटक बनाने के लिए प्रधानमंत्री, रेलमंत्री को भी लिखा, स्थानीय लोगों ने सांसद से भी गुहार लगायी लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया। मार्ग के न खुलने से क्षेत्र के लोगों को दिक्कत तो आ ही रही है।

-हेमराज वर्मा

पूर्व राज्यमंत्री, उत्तर प्रदेश


प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के साथ ही इस मिनी हाईवे का निर्माण कार्य और शिथिल हो गया। केंद्रीय मंत्री एवं सांसद मेनका गांधी की नजर बंद रेलवे फाटक पर गई और न ही किसी विधायक ने इस ओर रुख किया जिससे क्षेत्र की जनता को एक बार फिर निराशा हाथ लगी। ब्राडगेज रेलवे लाइन का काम शुरू होने से ट्रेनों का आवागमन बंद है। मिनी हाइवे भी जर्जर अवस्था में है। रोड से गुजरने वाले राहगीर वाहनों से उतर कर पैदल रेलवे क्रासिंग को पार करते देखे जा सकते हैं।

Related posts