पीलीभीत : संघ नेता निकला शातिर ठग, केस निपटवाने के नाम पर ठग लिए डेढ़ लाख

  • तुषार सक्सेना

पीलीभीत। जिले में ठगी ने पाँव पसार लिए है। एक के बाद एक ठगी के मांमले सामने आ रहे हैं। आरएसएस का नेता द्वारा केस हटवाने के नाम पर डेढ़ लाख रुपये ठगने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। खुद को संघ का नेता बताने वाले इस शातिर ठग के पिता के ऊपर भी पूर्व में काई आपराधिक मामले चल रहे है। दोनो पिता पुत्र जिले में प्रतष्ठित लोगो के साथ भी मार पीट कर कई घटनाओ को अंजाम दे चुके हैं।

शातिर ठग संघ नेता आकाश सक्सेना

मामला पीलीभीत की पूरनपुर तहसील के पेस्टी साइड व्यापारी जितेंद्र कुमार के साथ हुई ठगी का है। जितेंद्र के पुत्र अंकुर अग्रवाल ने बताया कि उनके पिता व्यवसाय के सिलसिले में कई स्थानों पर मीटिंग के लिए जाते हैं। अंकुर ने लिखे प्राथना पात्र में लिखा है कि ऐसी ही पेस्टी साइड कंपनी की एक मीटिंग भीमताल में 24 फरवरी 2019 को हुई थी। जिसमें शामिल 17 व्यवसायियों में बलबंत भी शामिल था। शामिल थे। बलवंत की उसी रात अधिक शराब पीने के कारण होटल में ही मृत्यु हो गई थी। अंकुर के पिता जितेंद्र कुमार, बलवंत को ब्रज लता हॉस्पिटल रिसर्च सेंटर हल्द्वानी इलाज के लिए ले गए। जहां पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। जितेंद्र कुमार ने मृतक के परिजनों से संपर्क किया उनके कहे अनुसार मृतक बलबंत का शव पीलीभीत जिला अस्पताल लाकर परिजनों की देखरेख में छोड़कर अपने घर आ गए। घटना के कुछ दिनों के बाद अंकुर के पिता जितेंद्र कुमारको पता चला कि उनके व उनके दो अन्य साथियों के खिलाफ थाना कोतवाली पूरनपुर में धारा 302 व हरिजन एक्ट में मुकदमा दर्ज किया गया है।

ठगी का शिकार अंकुर अग्रवाल

अंकुर ने आरोप लगाते हुए बताया कि जब वो न्याय पाने के लिए दरबदर भटक रहा था तभी अचानक उसके पास पीलीभीत के लोहा बाजार निवासी आकाश सक्सेना पुत्र दीपक सक्सेना पहुंचा। दीपक ने संघ के प्रदेश स्तरीय नेता का होने का दावा किया और कहा कि मेरी जान पहचान उच्च अधिकारियो से है मैं तुम्हारा सारा केस निपटवा दूंगा। जिसका खर्च है लगभग दो लाख रूपए तुम्हे देना होगा। परेशान अंकुर शातिर ठग आकाश सक्सेना के झांसे में आ गया और उसे डेढ़ लाख रुपये दे दिए। लेकिन काफी समय बीत जाने के बाद अंकुर ने जब ठग आकाश सक्सेना से संपर्क किया तो उन्होंने कोई जबाब नहीं दिया और उनका फोन ही उठाना बंद कर दिया। कुछ समय बाद ठग आकाश सक्सेना फिर अंकुर के पास फिर पहुंचा और पचास हज़ार की मांग की। मामले को भांपते हुए अंकुर ने आकाश सक्सेना की और पैसे मांगने की बाते अपने मोबाइल में रिकॉर्ड कर ली। जिसपर कथित संघ नेता धमकी देते हुए वहां से चला गया।

अंकुर ने लिखित शिकायत कर ठग संघ नेता पर कार्यवाही की मांग की है।

Related posts