रहिये तैयार महंगे होने जा रहे हैं Jio-एयरटेल-वोडाफोन के रिचार्ज प्लान

आर्थिक मंदी के दौर में अब आप पर एक और झटका लगने जा रहा है। आर्थिक संकट से गुजर रही टेलीकॉम कंपनियों के कर्ज का बोझ अब सीधा मोबाइल फोन ग्राहकों पर पड़ने वाला है क्योंकि वोडाफोन-आइडिया, एयरटेल और जियो अपने टैरिफ (Tariff) में 25-30 फीसदी की बढ़ोतरी करने जा रही है यानि कि मोबाइल फोन उपभोक्ताओं के लिए कॉल करने के साथ-साथ इंटरनेट का इस्तेमाल करना भी महंगा हो जाएगा। इंडस्ट्री के एग्जिक्यूटिव्स और ऐनालिस्ट्स के अनुसार इन कंपनियों के ऐवरेज रेवेन्यू पर यूजर (ARPU) में ज्यादा बढ़ोतरी नहीं हुई है और देश में टेलिकॉम सर्विसेज पर सब्सक्राइबर्स का कुल खर्च अन्य देशों की तुलना में काफी कम है। वोडाफोन आइडिया और एयरटेल द्वारा मौजूदा समय में अजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (AGR) की बकाया रकम का भुगतान किया जाना है। ऐसी स्थिति में इन कंपनियों को टैरिफ में बढ़ोतरी करना जरूरी हो जाएगा। एक्सपर्ट्स की मानें तो वोडाफोन-आइडिया के लिए मुश्किलें और भी ज्यादा अधिक हैं और कंपनी ने बिजनेस से बाहर होने की आशंका भी जताई हैं अगर ऐसा होता है तो टेलिकॉम मार्कीट में एयरटेल और रिलायंस जियो ही बचेंगे। बता दें कि इन टेलीकॉम कंपनियों ने पिछले वर्ष के अंत में प्रीपेड टैरिफ 14-33 पर्सेंट बढ़ाया था, यह तीन वर्षों में इसमें पहली बढ़ोतरी थी। हालांकि इसके बावजूद भी सब्सक्राइबर्स कम्युनिकेशन की अपनी जरूरतों पर प्रति व्यक्ति आमदनी का केवल 0.86 पर्सेंट खर्च कर रहे हैं, जो चार वर्ष पहले की तुलना में काफी कम है। ऐनालिस्ट्स ने बताया कि देश में कम्युनिकेशन पर यूजर्स का खर्च अमेरिका, ब्रिटेन, सिंगापुर, चीन, फिलीपींस, जापान और ऑस्ट्रेलिया से बहुत कम है।