आतंकियों के मददगार DSP दविंदर सिंह से शेर-ए-कश्मीर मेडल लिया गया वापस

जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने आतंकवादियों को जम्मू-कश्मीर से बाहर निकलने में मदद करने के आरोप में गिरफ्तार पुलिस उपाधीक्षक दविंदर सिंह को बहादुरी के लिए दिया गया शेर-ए-कश्मीर पुलिस पदक बुधवार को वापस ले लिया। सरकारी आदेश के अनुसार, निलंबित अधिकारी का कदम विश्वासघात के बराबर है और उससे बल की छवि खराब हुई है। आदेश के अनुसार, सिंह को 2018 मे पुलिस पदक दिया गया था। वहीं इससे पहले डी.एस.पी. दविंदर सिंह पर जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए सेवाओं से बर्खास्त कर दिया है। डी.एस.पी. सिंह से सुरक्षा एजेंसियां लगातार पूछताछ कर रही हैं। पूछताछ दौरान कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। अभी पूछताछ जारी है, लेकिन इस केस की जांच कर रहे सीनियर पुलिस अधिकारी दविंदर सिंह के रोल से हैरान हैं।

दविंदर सिंह के रिश्तेदार के यहां मिला सेना के 15 कोर का पूरा नक्शा

वहीं दविंदर सिंह के रिश्तेदारों के घर पर सुरक्षा एजेंसियों ने छापा मारा है। इस छापामारी में सेना के 15 कोर का पूरा नक्शे के साथ साढ़े सात लाख रुपए व भारी मात्रा में हथियार बरामद किया गया है। सुरक्षा एजेंसियों को डर है कि कही हिज्बुल के आतंकियों ने यह नक्शा अपने पाक हैंडलर्स के साथ साझा न किया हो। एजेंसियों की मानें तो दविंदर सिंह ने अपने रिश्तेदारों के घर में पैसा छुपाकर रखा है। सुरक्षा एजेंसियां भी पूरे इलाके पर निगरानी रखने के लिए ड्रोन कैमरे का सहारा ले रही है। दविंदर के इंदिरानगर स्थित आवास और उसी इलाके में अधिकारी के एक निर्माणाधीन मकान की भी तलाशी ली गई। एक अधिकारी ने बताया तलाशी अभियान के दौरान कुछ दस्तावेज बरामद किए गए है।

2018 में स्वतंत्रता दिवस पर मिला था वीरता पदक

वहीं जम्मू-कश्मीर पुलिस ने ट्वीट कर कहा कि पूर्व में जम्मू-कश्मीर राज्य की ओर से साल 2018 में स्वतंत्रता दिवस के मौके पर उनकी सेवा के दौरान वीरता पदक से सम्मानित किया गया था। पुलिस ने कहा कि जिला पुलिस लाइंस पुलवामा में जब डीएसपी के रुप मे तैनात थे, तब 25-26 अगस्त 2017 को आतंकवादियो की ओर से एक फिदायीन हमले का सामने करने में उनकी भागीदारी के लिए वीरता पदक प्रदान किया गया था। गौरतलब है कि आतंकवादी गतिविधियों को लेकर खुफिया जानकारी के आधार पर शनिवार शाम को अनंतनाग के वानपोह में सुरक्षा बलों ने एक वाहन को रोका। सुरक्षा बलों ने वाहन से 2 आतंकवादियों सहित डी.एस.पी. देविंद्र सिंह को गिरफ्तार किया था, जिनके पास से 1 ए.के.-47 राइफल, एक पिस्तौल और अन्य हथियार एवं गोला-बारूद बरामद किया गया था। गिरफ्तार दोनों आतंकवादी हिजबुल के शीर्ष कमांडर हैं, जिनकी कई आतंकवादी घटनाओं के सिलसिले में तलाश थी।