CAA और NRC पर बोलीं पूजा भट्ट “अब आवाज उठाने का वक्त आ गया है”

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और एनआरसी के मुद्दे पर बॉलिवुड फिल्म अभिनेत्री और निर्माता-निर्देशक पूजा भट्ट ने भी बयान दिया है। पूजा भट्ट ने कहा कि वह अपने नेताओं से विनती करती हैं कि देश भर में उठ रही आवाजों को सुनें। पूजा भट्ट ने मुंबई, शाहीन बाग और लखनऊ में हो रहे प्रदर्शन का भी जिक्र किया। पूजा भट्ट ने कहा कि वह सीएए और एनआरसी का समर्थन नहीं करती, क्योंकि यह उनके घर को बांटता है।

पूजा भट्ट ने कहा, ‘मैं हमारे नेताओं से विनती करती हूं कि देशभर में उठ रही आवाजों को सुनें। भारत की महिलाओं को, शाहीन बाग और लखनऊ की महिलाओं को… हम तब तक नहीं रुकेंगे जब तक हमारी आवाज नहीं सुनी जाएंगी।’ पूजा भट्ट ने आगे कहा, ‘मैं लोगों से विनती करती हूं कि इस पर ज्यादा से ज्यादा बोलें। मैं सीएए-एनआरसी का समर्थन नहीं करती, क्योंकि यह मेरे घर को बांटता है।’अभिनेत्री पूजा भट्ट ने मतभेद देशभक्ति का सर्वश्रेष्ठ स्वरूप है। उन्होंने कहा, ‘सीएए-एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे छात्रों से हमें यह संदेश मिलता है कि अब आवाज उठाने का वक्त आ गया है।’ दक्षिण मुंबई के कोलाबा में सीएए-एनआरसी के खिलाफ चल रहे प्रदर्शनों के थीम पर आयोजित एक कार्यक्रम में कई अन्य हस्तियों के साथ पूजा भट्ट ने भी हिस्सा लिया था।

कार्यक्रम का आयोजन परचम फाउंडेशन और वी द पीपल ऑफ महाराष्ट्र द्वारा किया गया था। कार्यक्रम के वक्ताओं ने बाद में सरकार के प्रतिनिधियों को एक ज्ञापन सौंपा, जिसमें 30 दिनों के अंदर सीएए-एनआरसी-एनपीआर पर राज्य अधिकारियों का रुख जानने की मांग की गई।पूजा भट्ट ने कहा, ‘हमारी चुप्पी हमें नहीं बचाएगी और न ही सरकार की। सत्ता पक्ष ने वास्तव में हमें एकजुट किया है।’ उन्होंने कहा, ‘छात्र (सीएए-एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं) हमें संदेश दे रहे हैं कि यह आवाज उठाने का समय है। मतभेद देशभक्ति का सबसे बड़ा रूप है।’पिछले कई दिनों से सीएए और एनआरसी को लेकर देश में बहस छिड़ी हुई है। इस कानून को लेकर बॉलिवुड भी बंटता नजर आ रहा है। कुछ इसके समर्थन में तो कुछ विरोध में बोल रहे हैं। पिछले दिनों सीएए को लेकर वरिष्ठ अभिनेता नसीरुद्दीन शाह और अनुपम खेर के बीच भी जंग छिड़ गई थी।