महाराष्ट्र : हिंदूवादी पार्टी के सीएम की ताजपोशी की गवाह बनेंगी धर्मनिरपेक्ष पार्टियां

0
28
Udhav Thakre

महाराष्ट्र में ऐसे दलों की सरकार बनने जा रही है जो एक कट्टर हिंदूवादी पार्टी रही है दूसरी जिन दलों के सहयोग से सरकार बनने जा रही है उन्हें तथाकथित धर्मनिर्पेक्ष दल कहा जाता रहा है। इसी को कहते हैं राजनीति। जी हां महाराष्ट्र की शिवसेना जिसकी कट्टर हिंदूवादी पार्टी की छवि रही है वहीं कांग्रेस और एनसीपी जिसे धर्मनिर्पेक्ष दल कहा जाता है ऐसे बेमेल दल हैं जिनकी महाराष्ट्र में सरकार बनने जा रही है। कहने का मतलब यह है कि सत्ता के लिए न कोई कट्टरवादी है और न ही कोई धर्मनिर्पेक्ष है। कभी भाजपा के साथ बलगहियां डाले जो शिवसेना अपने आपको कट्टरवादी हिंदू पार्टी घोषित कर चुकी थी वही आज सत्ता के लिए भाजपा को तलाक देकर उन दलों के साथ समझौता कर चुकी है जिन्हें एनसीपी और कांग्रेस कभी फूंटी आंख नहीं सुहाती थी।

बता दें कि मंगलवार को शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को सर्वसम्मति से ‘महा विकास अघाड़ी’ का नेता चुना गया और वे गुरुवार शाम 6:40 बजे शिवाजी पार्क में आयोजित होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में राज्य के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। ऐसा पहली बार होगा जब ठाकरे परिवार का कोई सदस्य मुख्यमंत्री बन रहा है। शिवसेना इस शपथ ग्रहण समारोह को भव्य बनाने में कोई कमी बाकी नहीं रखना चाहती है। बताया जा रहा है कि इस समारोह में कई राज्यों के मुख्यमंत्री शामिल होंगे। जो कभी शिवसेना के विचारों के कट्टर राजनीतिक विरोधी हुआ करते थे। आज वही शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के ताजपोशी के गवाह बनने जा रहे हैं।

कहा जा रहा है कि 70 हजार कुर्सियां लगाई जा रही हैं शिवाजी पार्क में बुधवार शाम 6.40 बजे होने वाले उद्धव ठाकरे के शपथ ग्रहण समारोह के लिए मेहमानों की लंबी-चौड़ी लिस्ट तैयार की गई है। शिवाजी पार्क में इसके लिए करीब 70 हजार कुर्सियां लगाई जा रही हैं। वहीं एक बड़ा मंच भी तैयार किया जा रहा है। यहां पर भी सौ कुर्सियां लगाई जा रही हैं। बड़ी संख्या में शिवसेना के समर्थक भी वहां मौजूद रहेंगे। कांग्रेस के सभी मुख्यमंत्री हो सकते हैं समारोह में शामिल इस शपथ ग्रहण समारोह में प्रमुख विपक्षी दलों के नेता एक मंच पर दिखाई देंगे। इनमें गैर-एनडीए शासित राज्यों के मुख्यमंत्री भी दिखाई देंगे।

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह सहित कई भाजपा नेताओं को न्योता भेजा गया है फिलहाल। हालांकि, अभी ये पूरी तरह तय नहीं हो पाया है। वहीं, बताया जा रहा है कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को भी न्योता भेजा गया है।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ-साथ सभी कांग्रेस मुख्यमंत्रियों को न्योता भेजा गया है ऐसी ख़बरें हैं। वहीं, उ.प्र. के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा को भी न्योता भेजे जाने की ख़बर है। साथ ही कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को न्योता भेजा गया है। फिलहाल गुरूवार के शपथ ग्रहण समारोह को लेकर, ऐसी खबरें आ रही हैं कि राहुल गांधी का कल मुंबई का कोई कार्यक्रम नहीं है।

शिवसेना इस शपथ ग्रहण समारोह को भव्य बनाने के लिए पूरी तैयारियों में जुटी है। फिलहाल उद्धव ठाकरे के मुख्यमंत्री पद की शपथ समारोह में भाजपा के खेमे के किसी बड़े नेता केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा शासित राज्यों के किसी मुख्यमंत्री के शामिल होने की अभी तक कोई ख़बर नहीं मिल पायी है। GNS