उर्से शाहदाना वली में फ़नकारों ने सजाई रूहानी महफ़िल

  • मुनीब हुसैन

बरेली। उर्से शाहदाना वली रहमतुल्लाह अलेह के तीसरे दिन की शुरुआत बाद नमाज़े फ़ज़र तिलावते कलाम ए पाक से हुई।

चादरों का जुलूस निकाला

चादरपोशी का जुलूस गुड्डू फरीदी के यहाँ से शुरू हुआ जो शहामतगंज होता हुआ अपने तयशुदा रास्तो से होते हुए दरगाह पर पहुँचा। जिसमें बड़ी तादात में अकीदतमंदों का जनसैलाब शामिल हुआ। जुलूसे शाहदाना वली वसी अहमद वारसी की कयादत में निकाला गया। रास्ते भर लोगों ने जुलूस का फूलो की बारिश कर इस्तक़बाल किया, बाद नमाजे असर चंदा मियां ने अपने हम नवाओ के साथ मिला शरीफ पढ़ी।

फ़नकारों ने कब्वाली की महफ़िल सजाई

बाद नमाज़े इशा फ़नकारों ने कब्वाली की महफ़िल सजाई कब्वाल मोबिन नियाजी साबरी ब्रदर्स मुजफ्फरनगर, अकरम असलम अमरोहा , शब्बू नियाजी ने अपने कलाम में पढा

तेरे दर से सवाली खाली न गया,

उर्से के सभी प्रोग्राम दरगाह के मुतावल्ली सूफ़ी अब्दुल वाजिद खाँ की देखरेख में सम्पन्न हुए।

नगर निगम के अधिकारियों को मांग पत्र सौंपा

उर्स कमेटी के लोगो ने साफ सफाई, पथप्रकाश व्यवस्थाऐ दुरुस्त कराने को लेकर नगर निगम के अधिकारियों से मुलाक़ात की और शाहदाना रेलवे ग्रांउड पर पुख्ता इंतजाम करने को लेकर मांग की। वसी अहमद वारसी के नेतृत्व में एक मांग पत्र दिया गया। उर्स की व्यवस्था देखने वालों में युसूफ इब्रहिम, गफूर पहलवान, मौलाना शुजात खा, जावेद खा, जर्दब साबरी, अब्दुल सलाम नूरी, भूरा साबरी, आसिफ सकलेनी, सलीम रजा, शिरोज सैफ कुरेशी, आराफीन कुरेशी, मिर्जा मुकर्रम बैग, सलमान शमशी , शानू घोसी, परवेज खान, हनीफ मियां आदि सहित बड़ी तादाद में लोग मौजूद रहेदरगाह के मीडिया प्रभारी वसी अहमद वारसी ने बताया कि 1 दिसम्बर को उर्स के चौथे दिन ठिरिया निजावत खाँ से चादरों का जुलूस दरगाह आएगा, बाद नमाज़े इशा महफिले समां के प्रोग्राम का आयोजन होगा जो देररात तक जारी रहेगा।