Dr Akash Soni के तत्वाधान में तैयार हुई मध्यप्रदेश के 7000 डॉक्टरों की रक्त कुंडली

Opinion Today > जीवन शैली > Dr Akash Soni के तत्वाधान में तैयार हुई मध्यप्रदेश के 7000 डॉक्टरों की रक्त कुंडली
डॉ आकाश सोनी के तत्वाधान में तैयार हुई मध्यप्रदेश के 7000 डॉक्टरों की रक्त कुंडली

Dr Akash Soni के तत्वाधान में तैयार हुई मध्यप्रदेश के 7000 डॉक्टरों की रक्त कुंडली

कोरोना के समय जब पूरा देश ही नहीं पूरा विश्व परेशानियों से जूझ रहा था उसी समय कोरोना के दौरान संक्रमण से बचाने जब प्लाज्मा की भूमिका को अहम माना गया तब मांग इतनी बढ़ी कि अस्पतालों में प्लाज्मा की कमी हो गई। ऐसे में उस समय मध्य प्रदेश जूनियर डॉक्टर्स एसोसिएशन की यूजी विंग के प्रदेश अध्यक्ष डॉ आकाश सोनी ने हेल्पलाइन बनाकर प्लाज्मा ग्रुप बनाया और तीन हजार जूनियर डॉक्टर्स को इससे जोड़ा। यही यूजी विंग मेडिकल कॉलेजों के डॉक्टर्स और स्टाफ की रक्तकुंडली तैयार कर रही थी।

इसके लिए सभी 13 सरकारी मेडिकल कॉलेज को यूजी विंग के साथ जूनियर्स डॉक्टर का ब्लड डेटा बेस तैयार किया जा रहा था। मप्र के करीब सात हजार डॉक्टर्स के अलावा अन्य लोगों के ब्लड ग्रुप और उनकी पूरी जानकारी बनाई जा रही थी, इस रक्त कुंडली को रक्तदाता दिवस के दिन लॉन्च किया गया था अब इसका काम लगभग पूरा हो चुका है।

डॉ आकाश सोनी के तत्वाधान में तैयार हुई मध्यप्रदेश के 7000 डॉक्टरों की रक्त कुंडली
Dr Akash Soni के तत्वाधान में तैयार हुई मध्यप्रदेश के 7000 डॉक्टरों की रक्त कुंडली 4

यह होगा फायदा

  • हजारों डोनर एक प्लेटफार्म पर होंगे, जिससे पता होगा कि कहां कौन रक्तदान कर सकता है।
  • मरीजों को रक्त के बदले में डोनर ले जाने की बाध्यता कम होगी, ग्रुप के सदस्य ही काम करेंगे।
  • मरीज और डोनर के मन में उठने वाली शंकाओं को दूर करने के लिए काउंसलिंग भी होगी।

कैसे आया आईडिया:-

यूजी विंग के पूर्व अध्यक्ष और इस प्रोग्राम के चीफ एडवाइजर डॉ. आकाश सोनी के मुताबिक इसके लिए पोर्टल तैयार किया गया था, जिसमें वाट्सऐप नंबर जारी किया गया था।

इस नंबर पर हमे डोनर के द्वारा रक्त संबंधी जानकारी के साथ अन्य जानकारी मसलन घर का पता, बीमारी इत्यादि की जानकारी साझा की जायेगी, हमारे पास फिलहाल सात हजार लोगों की जानकारी थी उनमे से ज्यादा तर लोगों को जोड़ा जा चुका है, ऐसे में प्रदेश के जिस क्षेत्र में मरीज को जरूरत होगी, उसके पास वाले डोनर को भेज देंगे।

लक्ष्य:-
“लोगों को बचाने के साथ-साथ जागरूकता बढ़ाना भी इस प्रोग्राम का मुख्य लक्ष्य है, इससे लोगों को रक्तदान के लिए जागरूक करना आसान होगा और आने वाले समय में लोग निडर होकर रक्तदान कर सकेंगे”:- डॉ आकाश सोनी के मुताबिक।