मोहर्रम की दो तारीख में उठे तीन जुलूस-ए अलम

  • शार्जिल ज़ैदी

बरेली/सेंथल। मोहर्रम पर अज़ादारी का सिलसिला जारी है मोहर्रम की दो तारीख पर कस्बे में तीन जुलूस-ए-अलम उठे। जहां एक ओर अलम और डोले का जुलूस उठा तो वहीं दूसरी ओर ताज़िए का जुलूस भी उठा। साथ ही मजलिस-ए-अज़ा का सिलसिला भी चलता रहा।

गुरुवार को इमामबाड़ा बाड़ा से अलम और डोले का जुलुस उठा।जुलुस का जगह जगह स्वागत हुआ। जुलूस में मुतावल्ली खुर्शीद अहमद सलमानी, सलीम सलमानी, हबीब पेंटर, यासीन, फहीम सलमानी, मोहम्मद हसीन सलमानी, राशिद आदि ने मर्सिया ख्वानी की। दूसरा जुलूस मोहल्ला चौधरी से अंजुमन हैदरी के तत्वाधान में उठा। जो बस्ती का गश्त करता हुआ देर रात इमामबाड़ा खुर्द पर जाकर समाप्त हुआ। तीसरा ताज़िए का जुलुस अंजुमन असगरिया के नेतृत्व में इमामबाड़ा खुर्द से उठा जो अपने निशचित मार्ग से होता हुआ मोहल्ला चौधरी में शबाब हुसैन ज़ैदी के आवास पर जाकर समाप्त हुआ। जिसमें अल्वी ज़ैदी और फरोग ज़ैदी ने नौहा ख्वानी की। इसके साथ ही देर रात तक मजलिसों का सिलसिला चलता रहा। पहली मजलिस ज़फ़र अब्बास ज़ैदी के आवास पर हुई जिसको मौलाना सिब्ते हसन मुज़फ्फरनगर ने ख़िताब किया। आखरी मजलिस इमामबाड़ा कला में हुई जिसको मौलाना कैफ़ी आज़मी ने ख़िताब किया साथ ही मरगूब हुसैन के आवास पर विशेष नज़र का आयोजन किया गया।

Related posts