आप की हुंकार : बलात्कारियों को फांसी दो

विवेक वर्मा 
देहरादून : देश में महिलाओं और बच्चियों के साथ बढती हिंसा और बलात्कार की घटनाओं के विरोध में आम आदमी पार्टी उत्तराखंड के कार्यकर्ता सड़कों पर आ गए. सरकार की उदासीनता और दरिंदगी की घटनाओं के विरोध में पार्टी द्वारा अपनी तीन सूत्रीय माँगों को लेकर तीन दिवसीय प्रदेशव्यापी व्यापक जन-अभियान चलाया जा रहा है. इसी के तहत पहले दिन गाँधी पार्क व रिस्पना पुल पर कार्यक्रम आयोजित किया गया। सैकड़ों कार्यकर्ताओं को सम्भोधित करते हुए जिलाध्यक्षा उमा सिसौदिया ने कहा कि देश में महिलाओं के प्रति बढ़ती लैंगिक दुराचार और उत्पीड़न की अमानवीय घटनायें शर्मनाक हैं कमजोर कानून और लम्बी कानूनी प्रक्रिया से दुराचारी बच निकलते हैं इस वजह से दुराचारियों में कोई डर नहीं है. देश में कनून व्यवस्था छिन्न भिन्न हो चुकी है जिस कारण से ऐसे अपराध बढ़ते जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल पिछले आठ दिनों से दिल्ली में समता स्थल पर नारी अस्मिता की लड़ाई लड़ने हेतु अामरण अनशन पर हैं. उनकी केन्द सरकार से माँग है कि बलात्कार के मामलों की सुनवाई फास्ट ट्रेक कोर्ट में की जाये और नाबालिग से दुष्कर्म के मामले में छह महीने में जाँच पूरी कर फाँसी की सजा दी जाये. आम आदमी पार्टी इसका समर्थन करती है.
उमा सिसौदिया ने ज़ोरदार अपील की कि पॉस्को एक्ट में संशोधन कर नाबालिग से दुष्कर्म के मामले में फाँसी की सजा दी जाये और सुनवाई छह महीने में पूरी की जाए. उन्होंने मांग की कि दिल्ली की अरविन्द केजरीवाल सरकार की तर्ज पर प्रदेश की भाजपा की त्रिवेन्द्र रावत सरकार भी विधानसभा में इस संबंध में प्रस्ताव पारित करे. उन्होंने इस मुद्दे पर बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी के सत्ता में आते ही महिलाओं पर अत्याचार बेतहाशा बढ़े हैं और केंद्र की मोदी सरकार भी महिला सुरक्षा को लेकर गंभीर नहीं है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का “बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ” का नारा भी एक जुमला बनकर रह गया है. अब जुमले बाजी से काम नहीं चलने वाला. सरकार को सख्त क़दम उठाने ही पड़ेंगे.
जन-अभियान में महानगर अध्यक्ष विशाल चौधरीे, कुलदीप सहदेव, जीतेन्द्र पंत, राव नसीम, उपमा अग्रवाल, श्यामबाबू पाँडे, श्यामलाल नाथ, रविन्द्र सिंह, डॉ. वाजिद खान, दीपक केसला, सुनील घाघट, कमल राना, सुरेन्द्र प्रताप सिंह सहित सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद रहे.

Related posts

Leave a Comment