कोरोना को लेकर प्रशासन सतर्क, हेल्पलाइन नंबर किये जारी

0
43

बरेली। जिलाधिकारी नितीश कुमार ने कहा कि कोरोना वायरस के डर के कारण मास्क आदि का भंडारण अनावश्यक रूप से न करें। उन्होंने कहा कि मास्क की जगह साफ कपड़ा या टिश्यू पेपर का इस्तेमाल भी मास्क जैसा ही काम करेगा। उन्होंने मास्क ब्लैक करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के भी निर्देश दिए और कहा कि सम्बंधित विभाग इसके लिए तत्काल कार्रवाई करे। साथ ही उन्होंने आम लोगों से अपील की कि वे जिम्मेदार नागरिक बनें और अनावश्यक रूप से भीड़ भाड़ में न जाएं और अनावश्यक यात्रा भी न करें, और डर का माहौल बिलकुल भी न बनाए। विशेष रूप से छींकते या खांसते समय मुंह पर रुमाल जरूर रख लें या हाथ से ही मुंह बंद कर लें। अफवाहों पर बिल्कुल ध्यान न दें और प्रमाणिक जानकारी के बिना किसी भी मैसेज को फारवर्ड न करें।
जिलाधिकारी आज कलेक्ट्रेट सभागार में कोरोना वायरस से निपटने के सम्बंध में एक समीक्षा बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। बैठक में बरेली के सभी निजी चिकित्सा संस्थानों के साथ सरकारी अस्पतालों के प्रमुख भी मौजूद थे। उनके साथ ही बरेली के आईएमए के अध्यक्ष समेत कई संस्थाओं के प्रतिनिधि भी उपस्थित थे। बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि कोरोना वायरस से डर अनावश्यक रूप से बढ़ा चढ़ा कर प्रस्तुत न करें क्योंकि इस वायरस के मरीजों में 98 प्रतिशत तक स्वस्थ हो जाने की संभावना है, केवल दो प्रतिशत मामलों में ही मृत्यु की संभावना रहती है। उन्होंने बताया कि सामान्य खांसी, नजला बुखार आने पर सरकारी अस्पताल में डाक्टर से सम्पर्क अवश्य करें, बिना डाक्टरी सलाह के दवा न खाएं। उन्होंने कहा कि केवल सावधानी और सतर्कता से ही इस बीमारी से आसानी से बचा जा सकता है। किसी प्रकार के भय या पैनिक की आवश्यकता नहीं है और अफवाहों पर बिल्कुल ध्यान न दें।
बैठक में मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने अवगत कराया कि बरेली जिला अस्पताल में इस बीमारी के इलाज के लिए अलग से आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है। इलाज की समुचित व्यवस्था के लिए दवाई आदि तैयार रखी गई है। इसके अलावा सुबह 8 बजे से रात्रि 10 बजे तक 0581-2553311 हेल्पलाइन कार्य कर रही है जिस पर सहायता या जानकारी प्राप्त की जा सकती है। इसके अलावा अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा अधिकारी के मोबाइल नंबर 9997164999 पर भी जानकारी एवं सहायता प्राप्त की जा सकती है। इसके अलावा 102 तथा 108 नंबर की एम्बुलेंस भी तैयार रखी गई हैं जिनको अवश्यकता पड़ने पर बुलाया जा सकता है। इसके अलावा बरेली जिला अस्पताल में स्ट्रेचर, वेंटीलेटर तथा एम्बुलेंस अलग से भी तैयार रखी गई हैं। उन्होंने भी कहा कि सफाई सुथराई पर विशेष ध्यान देने से इस वायरस से आसानी से बचा जा सकता है। जिसे भी जुकाम बुखार हो वह स्वयं को सबसे अलग कर घर में सभी से दूरी बनाकर रहे तो कोई समस्या उत्पन्न होने की उम्मीद नहीं है। उन्होंने बताया कि जिन लोगों की ट्रैवेल हिस्ट्री थी, उन्हीं में से बरेली में कुल 59 लोगों की आबजर्वेशन में रखा गया और अभी तक केवल पांच ब्लड सैंपल की जांच की गई है जो निगेटिव आए हैं, यानी किसी में भी कोरोना के लक्षण नहीं निकले हैं।
बैठक में आईएमए बरेली के अध्यक्ष डाक्टर राजेश अग्रवाल ने बताया कि बरेली के निजी अस्पतालों में भी कोरोना के इलाज के लिए लगभग सभी निजी अस्पतालों में विशेष व्यवस्थाएं की गई हैं और यदि जरूरत पड़ी तो रियायती दरों पर मरीजों का इलाज भी किया जाएगा। उनके मोबाइल नंबर 9917672721 पर भी निजी अस्पताल, दवाई या सहायता आदि के लिए सम्पर्क किया जा सकता है। उन्होंने भी कहा कि आम लोग अनावश्यक रूप से पैनिक न करें क्योंकि डरने का वास्तव में कोई कारण नहीं है। जरा सी सावधानी या सतर्कता से कोरोना से बहुत आसानी से बचा जा सकता है। हर नागरिक अपना कर्तव्य समझते हुए इस सम्बंध में जागरूक रहे और सफाई पर विशेष ध्यान दे। उन्होंने कहा कि सेनेटाइजर के स्थान पर साबुन से भी हाथ धोने में कोई समस्या नहीं है।