मखदूम अशरफ ने हमेशा दिया बेसहारों को सहारा : डॉ सय्यद जलालुद्दीन अशरफ

शाहजहांपुर :: तहसील खुदागन्ज जलालपुर में एक दिवसीय मखदूम अशरफ कान्फ्रेंस का आयोजन किया गया। जिसकी सरपस्ती शहजाद ए मखदूमे सिमना ताजुल औलिया हजरत मौलाना डॉ सय्यद जलालुद्दीन अशरफ अशरफीउल जीलानी किछौछवी ने की, जबकि मुख्य अतिथि के रुप में आए अहले सुन्नत रिसर्च सेंटर बरेली के डिवीजनल अध्यक्ष व खलीफा ए शैखुल इस्लाम इस्लामिक स्कालर मुफ्ती साजिद हसनी ने अध्यक्षता की। कान्फ्रेंस का शुभांरभ कुरान की तिलावत के साथ मौलाना मन्सूब अशरफी ने किया। ताजुल औलिया मौलाना डॉ सय्यद जलालुद्दीन अशरफ अशरफीउल जीलानी किछौछवी ने अपनी तकरीर में कहा कि

मुसलमानों को चाहिए कि वह बच्चों के साथ बच्चियों को भी दीनी तालीम दिलाएं। पैगम्बरे इस्लाम पूरी दुनिया के लिए रहमत है

उन्होंने कहा कि युवाओं को उच्च शिक्षा ग्रहण करना चाहिए उन्होंने ने मखदूम अशरफ सिमनानी आला हजरत फाजिले बरेलवी और हुज़ूर हमशबीहे गौसे आजम अल्लामा सय्यद अली हुसैन अशरफी मियां की जीवनी पर विस्तार से प्रकाश डाला। मुख्य अतिथि के रुप में आए अहले सुन्नत रिसर्च सेंटर बरेली के के डिविजनल अध्यक्ष खलीफा ए शैखुल इस्लाम इस्लामिक स्कालर मुफ्ती साजिद हसनी ने हुजूर अलैहिस्सलाम की जीवनी पर विस्तार से रोशनी डाली उन्होने कहा कि

हमारे आका हुजूर मोहम्मद मुस्तफा पूरी दुनिया के लिए रहमत बनकर आए, हुजूर पाक ने हमेशा गरीबो यतीमो की मदद की। हमे भी हमेशा लोगो की मदद करना चाहिए।

उन्होने तालीम (शिक्षा) पर जोर देते हुए कहा कि बच्चो की तालीम के साथ बच्चियों की शिक्षा पर भी मुसलमानों को ध्यान देना चाहिए, उन्होने कहा कि हम लोगो को अपने पैगम्बरे इस्लाम की दी हुई शिक्षा पर अमल करना चाहिए।
किछौछा शरीफ से आए मौलाना गुलाम मुस्तफा किछौछवी ने कहा कि

पैगम्बरे इस्लाम की बताई हुई बातो पर अमल करना चाहिए आधी रोटी खाएं पर बच्चो को जरुर पढ़ाए।

मौलान मन्सूब अशरफी ने कहा कि

इस्लाम की बुनियाद पांच चीजो पर है कालिमा, नमाज, रोजा, हज, जकात मुसलमानों को इस पर अमल करना चाहिए।

मौलानाओ व इमामो ने नवी पाक की सीरत और मखदूम अशरफ सिमनानी की जीवनी पर विस्तार रोशनी डाली देर रात तक कान्फ्रेंस चली कान्फ्रेंस के कनवीनर मो0 महफूज अशरफी, डा जिलेदार अशरफी, सय्यद नवेद आलम अशरफी व अन्य पदाधिकारियों की ओर से तमाम उलेमाओं का स्वागत किया गया ।

मखदूम अशरफ कान्फ्रेंस में आए मुख्य अतिथि के रूप में उलेमा बोर्ड के मण्डलीय अध्यक्ष इस्लामिक स्कालर मुफ्ती साजिद हसनी कादरी ने युवाओं को हेल्मेट पहन वाइक चलाने की शपथ दिलाई हजारों की संख्या में लोगों ने जलसे में हाथ उठा कर हेल्मेट पहन ने शपथ ली हजारों की संख्या में युवाओं को मुफ्ती साजिद हसनी कादरी ने वाइक चलाते समय हेल्मेट पहन ने का संकल्प दिलाया उन्होंने बिना हेल्मेट बाइक चलाने के नुकसान भी बताये और हमेशा यातायात नियमों का पालन करने की सीख दी इसके साथ ही उन युवाओ को दूसरे लोगों को भी हेल्मेट पहन ने के लिए जागरूक किया
संचालन मौलाना गुलाम मुस्तफा किछौछवी ने किया। मौलाना फारुक अशरफी, महफूज अशरफी, शायरे इस्लाम हाजी मकसूद कदीरी, हजरत मन्सूबे मिल्लत मौलाना मन्सूब अशरफी बरेली , मौलाना मोइनुद्दीन बरकाती बरेली , खतीबे जीशान मौलाना पजीरुद्दीन अब्दुल कादिर खाँ बरकाती, सरताज अशरफी आदि ने कलाम पढ कर खिराजे अकीदत पेश किया ।
आखिर में ताजुल उलेमा डॉ सय्यद जलालुद्दीन अशरफ किछौछवी ने मुल्क मे अमन व अमान की दुआ मांगी। मन्सूबे मिल्लत मौलाना मन्सूब अशरफी, सय्यद नवेद आलम, महफूज अशरफी, डा जिलेदार अशरफी, आफताब अशरफी, राजू अशरफी, गुलाम यजदानी, साजिद सिद्दीकी, डॉ सलीम अन्सारी, नन्ने अशरफी, अम्बर अशरफी समीत हजारों की संख्या में लोग कान्फ्रेंस में मौजूद रहे